Thursday, May 31, 2018

शिवलिंग से आती है तुलसी के पत्ते समान खुशबू { Prachin Shivling Sirpur }

Gandheshwar Shivling Sirpur सिरपुर  जहा शैव, एवं वैष्णव, धर्म के मिलन का प्रतीक प्राचीन नगरी सिरपुर जिसे शैव  व बुद्ध की नगरी भी कहा जाता है | यहाँ पर साईड नंबर 15  में उत्खनन के उपरांत एक ऐसा शिवलिंग प्राप्त हुवा है | जिसमें तुलसी के पौधे के सराखे की खुशबु निकलती रहती है | 

Gandheshwar Mahadev Sirpur


पुरातत्व विभाग के विशेषज्ञों के अनुसार यह  अनुमान लगाया गया है |की  यह शिवलिंग लगभग 2000  वर्ष पुराण है और यह छत्तीसगढ़ राज्य के सबसे प्राचीन शिवलिंग में इसकी गणना की जाती है | सिरपुर में बहुत अधिक मात्रा में शिवलिंग मिलता है मगर यह शिवलिंग सबसे अनोखा है | 

mahadev in sirpur


sirpur ka itihas


GANDHESHWAR SHIVLING,CHHATTISGARH, STORY & HISTORY IN HINDI

इस शिवलिंग की लम्बाई 4  फिट और गोलाई 2 .5  फिट है | यह मंदिर पूरी तरह भग्न अवस्था में है | यहाँ पर प्रमुख शिव मंदिर गंधेश्वर महादेव मंदिर है | मगर इस प्राचीन शिवलिंग को उनके गुण  के अनुसार इसे गंधेश्वर महादेव का नाम दिया गया है | स्थानीय निवासी इसे प्रेम से चिकना महादेव के नाम से पुकारते है | यह शिवलिंग जिस शिलाखंड से बना है वैसे शिला का प्रयोग वाराणसी के काशी विश्वनाथ तथा उज्जैन के महाकालेश्वर  शिवलिंग के सामान है व चिकना है|  व काफी बड़ी है |  सिरपुर की और खुदाई में भव्य शिव मंदिर मिलने की बात विशेषज्ञों  द्वारा कही गयी | किसी -किसी  अंग्रेजी बुक में प्राचीन भव्य शिव मंदिर की बात सिरपुर में कही गयी है | 12 वी सदी में  यह सिरपुर अपनी समृद्ध अवस्था में रहा होगा उस समय भीषण भूकंप व  बाढ़  के प्रकोप ने पुरे नगर को तबाह कर दिया वर्ना  आज हमारे पास एक भव्य व सुन्दर नगरी वर्तमान पीढ़ी के पास होती |    

इनके भी दर्शन करे :-


No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...