Thursday, February 13, 2020

चण्डी माता मंदिर बागबाहरा (CHANDI MATA TEMPLE BAGBAHRA MAHASAMUND)

चंडी माता मन्दिर महासमुंद जिला अंतर्गत ग्राम घुंचापाली में स्थित है। ग्राम  घुंचापाली - बागबाहरा प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण है।चारो ओर  से जंगलो और पहाड़िओ से घिरे ग्राम में विराजमान है माँ चंडी। 
CHANDI MATA MANDIR BAGBAHRA
माँ चण्डी मंदिर 
माता चंडी रूप देखते ही बनता है लगभगफिट ऊची माँ की विशालकाय भूगर्भित प्रतिमा स्वयं में अद्वितीय है।
माता चंडी का मंदिर पहाड़ी के ऊपर स्थित है मंदिर जिला महासमुंद से 38 km  की दुरी पर स्थित है। मंदिर तक जाने हेतु सड़क मार्ग के साथ साथ रेलमार्ग की भी सुविधा है , बागबाहरा रेलवे स्टेशन से मंदिर की दुरी 4 km  है। 
माँ चण्डी 

पहाड़ी पर चढ़ने हेतु सीढ़ियों की कोई आवश्यकता नहीं है लंबे ढलान के होने से चढ़ाई अत्यंत सुगम हो जाती है अतः बुजुर्गों और अस्वस्थ लोगो जिन्हे सीढिया चढ़ने में कोई तकलीफ हो वे भी माँ के दर्शन हेतु जा सकते है। 

मंदिर की बनावट बहुत सुन्दर है, यहाँ बटुक भैरव, महावीर हनुमान जी, गुफा के अंदर स्थित माँ काली  शिव जी की मंदिर दर्शनीय है। जंगलो में जंगली जानवर भी है।
मुख्य मंदिर - पिछे से 

माँ की प्रत्यक्छ महिमा तब देखने को मिलती है जब प्रषाद लेने वालो की भीड़ में भालू महाराज भी शामिल होते है।  जी हाँ आश्चर्य की बात तो है की यहां  एक मादा और उसके दो शावक भालू रोज शाम को आरती के बाद माँ का प्रशाद लेने यहाँ आते है, लेटकर दंडवत प्रणाम करते है, पुजारी से प्रशाद लेकर खाते  है और चुपचाप अपने रास्ते लौट जाते है। ये भालू बहुत पहले से यहाँ रहे है  इनमे बड़े नर भालू भी शामिल थे पर अब उनकी मृत्यु हो चुकी है उनकी इस परम्परा  को अब उनके नन्हे शावक आगे आगे बढ़ा रहे है। खुले में आने वाले इन भालुओं से अब तक किसी भी आगंतुकों को कोई हानि नहीं हुई है  श्रद्धालु आपने हाथो से इन्हे प्रशाद खिलाते है। हालाकिं किसी भी अप्रिय घटना होने की स्थिति में मंदिर ट्रस्ट ने अपनी जवाबदारी होने के पक्ष  में जगह जगह नोटिस बोर्ड लगा रखे है।

maa chandi  mandir ghuchapali bagbahra

माँ चंडी से जुडी एक और खास बात यह भी है की माँ की प्रतिमा निरंतर बढ़ रही है मंदिर ट्रस्ट कई बार मंदिर को बना चूका है पर माँ कुछ ही सालो में माँ छत को छू जाती है और मंदिर फिर से तोडना पड़ता है। वर्त्तमान में माँ की प्रतिमा लगभग 9 से 10 फिट ऊची  है।

bagbahra tourism



चण्डी माता मंदिर बागबाहरा

चण्डी मंदिर प्रांगण 

Khallari Mata Temple Bhimkhoj
माँ खल्लारी भीमखोज 
प्रत्येक वर्ष की दोनों नवरात्री में यहाँ लोगो का तांता लगता है मंदिर में लगभग 8000 से 10000 ज्योत हर नवरात्री में श्रद्धालु मनोकामना पूर्ति हेतु जलाते है।पुरे नौ दिनों तक दिनरात विभिन्न आयोजन जसगीतों व् सेवागीतों की प्रस्तुति होती है भंडारों का आयोजन होता है श्रद्धालु परिवार सहित आकर माहौल का लुफ्त उठाते है।

यहाँ से भीमखोज स्थित खल्लारी माता मंदिर केवल 15  km. दूर है इसलिए जब भी आप बागबाहरा स्थित चंडी माता के दर्शन के लिए आयें तो ग्राम कोसरंगी के सिद्ध बाबा  भीमखोज स्थित खल्लारी माता के दर्शन जरूर करते जाये।

0 Please Share a Your Opinion.: