Thursday, May 31, 2018

शिवलिंग से आती है तुलसी के पत्ते समान खुशबू { Prachin Shivling Sirpur }

Gandheshwar Shivling Sirpur सिरपुर  जहा शैव, एवं वैष्णव, धर्म के मिलन का प्रतीक प्राचीन नगरी सिरपुर जिसे शैव  व बुद्ध की नगरी भी कहा जाता है | यहाँ पर साईड नंबर 15  में उत्खनन के उपरांत एक ऐसा शिवलिंग प्राप्त हुवा है | जिसमें तुलसी के पौधे के सराखे की खुशबु निकलती रहती है | 

Gandheshwar Mahadev Sirpur


Wednesday, May 23, 2018

Mata Kaushalya Temple in Chandrakhuri,Raipur (कौशिल्या माता मंदिर चंद्रखुरी )

Kaushalya Mata Temple in Chandrakhuri,Raipur


दुनिया का एकमात्र राम की जननी माता कौशिल्या का प्रसिद्ध  मंदिर छत्तीसगढ़ में स्थित है व  राजधानी से महज ३० कि.मी. की दुरी पर चंद्रखुरी नामक ग्राम पर सात तालाबों के बीच स्थित है| 

Kaushalya Temple  Chandrakhuri


Thursday, May 17, 2018

Chhattisgarh tourist places with photos (फोटो के साथ छत्तीसगढ़ पर्यटन स्थल )

 छत्तीसगढ़ के ऐतिहासिक स्थल,Historical sites of Chhattisgarh

राजिम

छ. ग. का प्रयाग काहा जाता है| माघपुर्णिमा से महाशिवरात्री तक मेला लगता है| राजिम को पाँच मंदिर कुलेश्वर  चम्पकेंष्वर ब्रम्हेंष्वर फिगेंष्वर पटेश्वर के कारण पंचकोषी धाम भी काहा जाता है|
Tourist places in Chhattisgarh



छत्तीसगढ़ के धार्मिक स्थल (Religious sites of Chhattisgarh)

Chhattisgarh Tourism Spot

छत्तीसगढ़ का प्राचीन नाम दक्षिण कौशल था | महर्षि वाल्मीकि कृत रामायण में उत्तर कोशल  व दक्षिण कोसल आ उल्लेख किया गया है| राजा दशरत की भार्या  कौशल्या इसी दक्षिण कोसल की राजकुमारी थी | 
रायपुर छत्तीसगढ़ की नव गठित राजधानी है| रायपुर ऐतिहासिक महत्व का स्थान है | यहां पर पांचवी सदी में पांडुवंश  ने अपनी प्रभुत्व स्थापित किया था | यहाँ पर अनेक धार्मिक एवं पौराणिक स्थल है जिसमे महत्वपूर्ण दुधाधारी मठ ,शीतला माता मंदिर ,महामाया मंदिर ,बुढ़ेश्वर महादेव मंदिर तालाब किनारे भगवान राम का प्राचीन राम मंदिर स्थित है साथ ही बंजारी धाम ,महादेव घाट आदि प्रमुख है |

पुरातात्विक धार्मिक ऐतिहासिक स्थल है| सिरपुर कें पाण्डुवष की राजधानी थी प्राचीन नाम चित्रागदपुर



Religious and mythological sites of Chhattisgarh


Tuesday, May 15, 2018

Tourist places in Chhattisgarh ( छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थल )

Tourist places in Chhattisgarh with photos

Introduction to Chhattisgarh  

Chhattisgarh is located in the heartland of India, 27 districts which are divided into 5 divisions. There is 7 districts in Bastar division. Dandakaranya area is an important place in India due to its archaeological tourism religious cultural character.

Tourism place in Chhattisgarh



Ramayan period


In this period, the name of G.G. was Southern Kaushal and Bastar's name was Dandakaranya, in Bastar, Lord Rama spent some time during his exile. Mata Sita was defeated in the place called Panchavati.

Major tourist destination of Bastar district


Jagdalpur


The district headquarter is located in Chhattisgarh, 30, is a city inhabited by Kakatiy Rajyavash, it is also a human museum museum.

Chitrakote Falls
Chhattisgarh Tourist


India's widest waterfall is. Located on the Indravrati river, the pedestal is 300 feet in length 90 fit in terms of fit tourism


तिरथगढ जलप्रपात-

Chhattisgarh tourism


छत्तीसगढ का सबसे ऊंचा चा जलप्रपात उचाई 300 फिट कांकेर की सहायक नदी मुनगाबाहर बस्तर जिले में स्थित है।
कांकेर घाटी नेशनल पार्क-
राज्य का सबसे छोटा राष्ट्रीय उद्यान स्थापना 1982 प्रमुख पशु,पहाडी मैना राजकिय पछी उडन गिलहरी भैसादरहा नामक स्थान पर प्राकृतिक रूप से मगरमच्छ पाये जाते है ।नवीनतम परियोजना तितली पार्क निर्माण किया जाएगा।कुटुमसर गुफा
cg Tourist places


जगदलपुर से 40 कि.मी की दुरी पर हैं काकेंर घाटी में स्थित हैं। इसकी खोज शकंर तिवारी नें कि थी। भारत की सबसे गहरी गुफा हैं लम्बाई 4500 फिट हैं ।जल द्वारा निर्मित गुफा स्टेलेमाइट औंर स्लेटराइट पत्थर से निर्मित अमेरिका के कार्ल्सवार आफ केव गुफा(दुनिया की सबसे लम्बा गुफा ) सें इसकी तुलना की गई है।यहा अन्धी मछली पायी जाती है।गुफा के अन्दर छोटी- छोटी नदिया बहती है| जिसके कारण बरसात मेें जाने कि मनाही होता है | नवम्बर से मई का समय भ्रमण हेतु उपयुक्त होता है।

कैलास गुुफा
चुने पत्थर सें निर्मित प्राकृतिक गुफा है| जो काकेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान में स्थित हैं।गुफा में शिवलिंग कि आकृतिया बनी हुई है।
दंन्तेवाडा जिला
जगदलपुर सें रा राजमार्ग 63 में स्थित है।
दन्तेश्वरी मंदिर निर्माण 14 वी शताब्दी में डंकनी शंखनी नदी के संगम पर निर्माणकर्ता अन्नमदेव काकतीय वंश के शासक निर्माण किया है |

विषेश :- मां दन्तेश्वरी की छ: भुजाओ वाली ग्रेनाइट की प्रतिमा है| यह मंदिर वास्तुकला का उदाहरण है यहा के दिपक में काजल नही केसर बनता है|

tourist places in chhattisgarh with photos

 सामने मां भुनेश्वरी देवी का मंदिर है। दोनो देवी की पुजा एक साथ होती है|

बारसुर छिन्दलनाग वंश कि राजधानी संस्थापक नृपति भूषण है| 
दर्षनीय स्थल :-
सरगुजा संभाग
सरगुजा जिला 5 जिले सरगुजा कोरिया सुरजपुर बलरामपुर जशपुर जिले में बटा हुआ है मौर्यकालिन से संवन्घित एंव भगवान ने यहा कुछ समय यहा व्यतित किया हैं।

रामगढ की पहाडी में स्थित गुफा जेागी मारा की गुफा


chhattisgarh tourism board


मौर्यकालिन अशोक के अभिलेख है।अभिलेख की भाषा पाली लिपि ब्राम्ही है| अंजता मौर्य काल कें समकालिन है|| इसमें नर्तक देवदत्त औंर नृत्यिका सुतनिका कें प्रेमगाथा का वर्णन है|


छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थल

लक्ष्मण बेगरा की गुफा

Famous Caves of Chhattisgarh

सीता बेंगरा की गुफा



Famous Caves of Chhattisgarh


यहा भरत मुनि नें अपनी नाटय शाला कि रचना की विश्व की प्राचीनतम नाटय शाला स्थित हैं। यही पर कालीदास जी ने अपनी मेंघदुत की रचना की हैं।
मैनपाट
छ ग का शिमला एकमात्र हिल स्टेशन उचाई 1152 मीटर 1962 में तिब्बत शरणार्थियो को यहा बसाया गया था
जलप्रपात रक्सगंडा रिहन्द नदी पर स्थित हैं।सरभंजा मांड नदी पर स्थित हैं।रायपुर संभाग
इस संभाग कें अंर्तगत 5 जिले - रायपुर ,महासमुन्द, गरियाबंन्द, धमतरी ,बलैादाबजार आते है| महासमुन्द जिला
भीमखोज खल्लारी महासमुन्द सें 22 किमी कि दुरी पें नेशनल हाइवे 353 में स्थित हैं पर्वत उपर मां खल्लारी का भव्य मंन्दिर जिसमें 900 सीडिया है| निर्माण कल्चुरी शासक ब्रम्हदेव कें शासन काल मे देवपाल मोची ने 1415 ई में करवाया था । चैत्र नवरात्रि मेे यहा मेला लगता है|


tourism place in Chhattisgarh


Presented By - Manish Tiwari

Sunday, May 6, 2018

Mama Bhanja Mandir Barsur (मामा भांजा मंदिर बारसूर - दंतेवाडा- छत्तीसगढ़ )


Mama Bhanja Temple History
दंतेवाडा जिले में वैसे तो अनेक प्राचीन पुरातात्विक दार्शनिक स्थलो  से भरा पड़ा है| 
मगर हम आज बारसूर ग्राम के मामा भांजा मंदिर कि बात करते है| यह मदिर काफी सुन्दर व अधभुद है| मगर ठीक से रखरखाव ना होने के कारण जर्जर अवस्था में है फिर भी आस पास के मदिर कि तुलना में यह मदिर ठीक है| 

Mama Bhanja Temple In Chhattisgarh
मामा भांजा मंदिर बारसूर 

इसका श्रेय भारत के पुरातात्विक विभाग को जाता है जिसके वजह से आज वर्तमान पीढ़ी इस प्राचीन मंदिर के दर्शन कर लाभ ले रहे है|
इस मामा भांजा मंदिर को बनाने में विशेष प्रकार के बलुई पत्थरो का प्रयोग किया गया है | छत्तीसगढ़ के अधिकतर मंदिर जैसे खल्लारी का नारायण मंदिर फिंगेश्वर का फनिकेश्वर नाथ मंदिर भोरमदेव मंदिर ,जांजगीर का विष्णु मंदिर आदि मंदिर  कि बनावट एक ही प्रकार के नजर आती है| यह मंदिर काफी उची है| इस मंदिर कि दीवारों पर कलात्मन शैल चित्रों को उकेरा गया है| जो उस समय कि अधभुद कलाकारी को आज भी दर्शाता है| मंदिर के शीर्ष के थोड़े निचे अगल – बगल में दो शिल्पकार मामा व भांजा कि मुर्तिया है| इस मंदिर परिसर पर अन्य मंदिरे भी है सभी अब भग्न अवस्था में है| शेष में देखे तो  दो प्राचीन गणेश प्रतिमा ही बची हुई है|

बारसूर के अन्य मंदिर के लिये यहाँ क्लीक करे


वैसे यह मामा भांजा मदिर मुख्य रूप से शिव मंदिर है| मगर इस मंदिर के नाम करण के पीछे अजब गजब कथा किद्वंती सुनने को मिलती है| स्थानीय निवासियों व कुछ इतिहास कारो के अनुसार यह बताया जाता है कि उस समय का तात्कालिक राजा परम शिव भक्त हुवा करता था तथा शिव के प्रति अपनी सच्ची आस्था स्वरुप व भगवान को प्रसन्न करने व लोक कल्याण के लिए एक ऐसा नायाब शिव मंदिर निर्माण करवाने का का स्वप्न देखा जिसे महज एक दिन में निर्माण किया जाये जिससे राजा का यश कीर्ति चारो दिशा में फैले साथ ही उसके कुल का नाम हो अपनी इसी अधूरी इच्छा को पूरी करने के लिए अपने राज्य के दो प्रसिद्ध शिल्पकार को बुलाया (स्थानीय निवासियों के अनुसार वह  शिल्पी कार कोई आम मानव नहीं थे वह कोई देवलोक से भेजे गए कोई देव थे अथवा यक्ष गंधर्व थे| कुछ लोक तो दोनो को देव शिल्पी विश्वकर्मा के वंशज बताते है| मगर इन सबका कोई साक्ष्य प्रमाण नहीं है| )


Barsur In Chhattisgar
मामा भांजा मंदिर बारसूर - दंतेवाडा

और राजा ने आदेश दिया एक शिव मंदिर का निर्माण किया जाये जिसे केवल एक ही दिन में पूर्ण किया जाने कि शर्त रखी | तब दोनों शिल्पकार राज्य आज्ञा स्वरुप अपनी ऐसे कारीगरी दिखाई जो आज के वर्तमान युग के लिए किसी स्वप्न से कम नहीं है| उन दोनों ने महज एक ही दिन में भव्य मंदिर का निर्माण कर दिया जो किसी चमत्कार से कम नहीं था|  {सोचनीय विषय यह है कि उस समय कोई आज कि तरह साधन नहीं हुवा करता था मगर उन लोगो ने कैसे इतने मोटे मोटे चट्टानों को इतनी उचाई पर कैसे पहुचाया कैसे चट्टानों को खोदकर नक्कासी किया कैसे उसके पत्थरो के जोड़ का पता नहीं चलता है | शायद उस समय कोई विद्या जानते थे या सिद्धि प्राप्त किये रहे होंगे जिससे चट्टानों को हवा में तैराया जाता रहा होगा यह सभ अधभुद कारनामे भारत में ही नहीं अन्य देशो में भी देखा जा सकता है|}

Dantewada Chhattisgarh


मंदिर पूर्ण होने के पश्चात राजा ने यहाँ शिवलिंग व गणेश कि प्रतिमा का स्थापना कि तब राजा ने उन शिल्पकारो को बुलाकर उनका आभार व्यक्त किया और उनका मेहनताना दिया और बोला कि यह मंदिर आज से तुम दोने मामा भांजा के नाम से जाना जायेगा तब से लेकर आज तक उस मंदिर को मामा भांजा के नाम से जाना जाता है|   
    
टिप :- इस लेख के माध्यम से हम मंदिर से जुडी कुछ जानकारी आपके सामने रख रहे है हमारा उद्येश किसी धार्मिक कथा व इतिहास को छेड़छाड़ करना नहीं है अपितु अपनी बात आपके सामने रखना है | यदि आपके कुछ  सुछाव है| निचे दिए गए कमेंट बाक्स पर अपनी राय जरुर दे| आपके सुझाव ही हमें सुधार हेतु प्रेरित करेंगे| 

प्रस्तुती - cgdekho1.blogspot.com
फोटो   - गिरिश कुमार श्रीवास 

Saturday, May 5, 2018

Chandradity Temple Barsur (चन्द्रादित्य मंदिर बारसूर )

CHANDRADITYA TEMPLE,BARSUR

Geo-coordinates-Lat.19008’16”N;Long.82022’57”E  Location-Village-Barsur,Tehsil- Dantewada  District-Dantewada(Chhattisgarh)


Chandradity Temple Barsur
   
The temple located near Chandradityesvara tank in Bhumij Style dedicated chief (Mahamandalesvara) under a Chhindaka

Nagavamshi King Jagdev Bhushan,as evident from a Telugu inscription of samvat 983 (1061 AD) found at Barsoor.

Chhattisgar Ke Dharmik Sthal
Barsur Chandradity Temple 

Barsur Chandradity Temple
Barsur Chhattisgar

Garbhagriha is pancharatha on plan and atteched with a square pillared mandapa in front.The exterior walls of jungha portion contain image of Brahma,incarnations,of Vishnu, Prajapati Daksha, Uma-Maheshvara and also few worth mentioning excellence.The temple seems to be constructed during 11th century AD   

All photos have been drawn by Girish Kumar Shrivas    
                                                                         
You Might Also Like :-

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...